दिल की बीमारियों से बचने के लिए, क्‍या खाएं और क्‍या नहीं? || Dil Ki Bimari Mein Kya Khana Chahiye Kya Nahi

 

दिल की बीमारियों से बचने के लिए, क्‍या खाएं और क्‍या नहीं? || Dil Ki Bimari Mein Kya Khana Chahiye Kya Nahi


आजकल के खान पान और दिनचर्या के चलते दिल की बीमारी बहुत ही आम होगई है। हर जगह आपको दिल के मरीज़ आसानी से देखने को मिल जाएंगे। बहुत से लोग इसका इलाज तो करा लेते है लेकिन उनको यह नहीं  पता होता की हमे किस तरह का खाना खाना चाहिए और किसका परहेज करना चाहिए। खान पान का सीधा असर आपके दिल पर होता है जो आपकी सेहत को बिगाड़ सकता है। आज हम आपके लिए लाये है कुछ खाने की प्रसिद्ध और पौष्टिक चीज़े जो दिल के मरीज़ को रोजाना खानी चाहिए। इससे दिल के मरीज़ को आराम मिलेगा और उसकी सेहत भी अच्छी और स्वस्थ रहेगी। एक्‍सरसाइज ना करना और पौष्‍टिक आहार ना खाने की वजह से हृदय रोग आम हो चला है। आइए जानते है कि हेल्‍दी हार्ट के लिए कौनसे फूड खाने चाहिए और कौनसे नहीं?

What To Eat And Avoid In Heart Problem




दिल की बीमारियों में क्‍या खाएं | What To Eat In Heart Disease

 

हरी पत्‍तेदार सब्‍जियां:

 

पालक, मेथी पत्‍ता, मूली का पत्‍ता, पत्‍ता गोभी आदि हार्ट रिस्‍क तथा कैंसर का खतरा कम करते हैं। इसमें मैग्नीशियम, कैल्शियम, पोटैशियम आदि भी होता है। हरी पत्‍तेदार सब्‍जियां में ना तो चर्बी होती है ना ही कैलोरी, बल्कि यह फाइबर से भरे हुए होते हैं।





बादाम:


इसको खाने से शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल का लेवल कम होता है। साथ ही यह ब्‍लड क्‍लॉट होने से भी बचाता है। बादाम में विटामिन बी 17, ई और मिनरल जैसे, मैगनीशियम, आयरन, जिंक और मोनोसैचुरेटेड फैट से भरे हुए होते हैं।





ओट:


ब्रेकफास्‍ट में खाने के लिये ओट से बेहतर और कोई नाश्‍ता नहीं हो सकता। इससे ज्‍यादा देर तक के लिये पेट भरा रहता है तथा यह हार्ट के लिये भी अच्‍छा होता है। ओट में फाइबर है और इसकी मदद से कोलस्‍ट्रॉल लेवल कम होता है।





साबुत अनाज:


चाहे यह गेहूं, मक्‍का, दाल, राजमा हो, आपके दिल के लिये अच्‍छा होता है। ऐसा इसलिये क्‍योंकि इसमें फाइबर और विटामिन पाया जाता है। साथ ही लोहा, मैगनीशियम तथा विटामिन ई होता है। इसको रोजाना खाने से रक्तचाप कम हो जता है।


ऑलिव ऑयल:


हार्ट के लिये ऑलिव ऑयल बहुत अच्‍छा होता है। इसको रोज खाने से रक्त कोलेस्ट्रोल कम होता है। इसमेंमोनोसैचुरेटेड फैट पाया जाता है जो कि हार्ट के लिये अच्‍छा माना जाता है। इसलिये अपने भोजन में इस तेल का इस्‍तमाल जरुर करें।

 




सोया प्रोटीन:


सोया मिल्‍क से बनी दही खाना ज्‍यादा फायदेमंद होती है। अगर आप मीट खाने के शौकीन हैं तो उसे ना खा कर सोया से बने आहार लें। क्‍योंकि मीट में हाई मात्रा में फैट होता है, जो कि रक्त कोलेस्ट्रोल को बढा सकता है।

 

टमाटर:


टमाटर में विटामिन पाया जाता है जो कि ब्‍लड को प्‍यूरीफाइ करता है। रोजाना टमाटर खाने से हार्ट रिस्‍क कम होता है। इसको कच्‍चा खाएं या फिर पका कर, दोनो ही फायदेमंद हैं।






 दिल की बीमारियों में क्‍या नहीं खाएं | What Not To Eat In Heart Disease

 

मक्खन और चीज:

 

मक्खन खाने से कोलेस्ट्रॉल के स्तर में वृद्धि होती है जिससे दिल के स्वास्थ्य के लिए खतरा होता है। चीज़ में वसा की उच्च मात्रा होती है, जो कि हृदय के लिये खतरनाक होता है।




प्रोसेस्‍ड मीट:


प्रोसेस्‍ड मीट में ऐसे हजारों तत्‍व होते हैं जो मीट को फ्रेश बनाने के लिये यूज़ किये जाते हैं। यह हमारे हृदय के लिये काफी नुकसानदेह हेाता है। 

 



दिल के रोगी खून में कोलेस्ट्रॉल बढ़ाती है कॉफी :

उबली हुई कॉफी में एक लिपिड होता है, जो खून में कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ा देता है। एक अध्ययन के अनुसार, चार कप कॉफी खून में पांच फीसदी कोलेस्ट्रॉल बढ़ा देती है। दस कप कॉफी कोलेस्ट्रॉल का स्तर 12 फीसदी तक बढ़ा देती है। कैफीन दिल की धड़कन को भी अनियमित कर देती है। इस स्थिति को अर्थमिया कहते हैं। साथ ही यह ब्लड प्रेशर भी बढ़ाती है। इससे दिल पर दबाव बढ़ता है और हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है।

 

 

सोया सॉस:

सोया सॉस में ढेर सारा नमक और सोडियम शामिल होता है जो कि हृदय की समस्याओं को जन्म दे सकता है। 

शक्‍कर वाली चीजें:

कैंडीज़, कैक या अन्‍य मिठाई और शीतल पेय वाली खाद्य सामग्रियां दिल के लिये काफी अस्‍वस्‍थ होती हैं। 




शराब-सिगरेट:

ज्यादातर देखने में आया है कि जो लोग शराब पीते हैं तो वे सिगरेट भी जरूर पीते हैं। अगर कोई व्यक्ति इन दोनों का सेवन करता है तो उसमें उच्च रक्तचाप और दिल का दौरा का खतरा और भी बढ़ जाता है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि हमारा लिवर शराब को बाहरी पदार्थ की तरह लेता है। इस वजह से लिवर एक घंटे में शराब की केवल 15 सीसी मात्रा को क्लीयर कर पाता है। शराब से जूझने के कारण लिवर के अन्य मेटाबॉलिक काम धीमे पड़ जाते हैं। जैसे कि खून से फैट को क्लीयर करना। जब यह काम अधूरा रह जाता है तो खून में थक्का बनने की प्रक्रिया शुरू होने लगती है। इसी के साथ यदि वह व्यक्ति सिगरेट भी पी रहा है तो सिगरेट में मौजूद खतरनाक पदार्थ खून के जमाव को और बढ़ाने का काम करते हैं। नतीजतन कोरोनरी रक्त वाहिनी में खून के रुकने की आशंका बढ़ जाती है।

 


 


दिल की बीमारियों से बचने के लिए, क्‍या खाएं और क्‍या नहीं? || Dil Ki Bimari Mein Kya Khana Chahiye Kya Nahi दिल की बीमारियों से बचने के लिए, क्‍या खाएं और क्‍या नहीं? || Dil Ki Bimari Mein Kya Khana Chahiye Kya Nahi Reviewed by deeksha arya on 14:15 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.