कमर दर्द के कारण एवं सबसे असरदार घरेलु इलाज हिंदी में | Baba Ramdev Tips For Back Pain | Kamardard Ka Ilaj By Baba Ramdev In Hindi

कमर दर्द के कारण एवं सबसे असरदार घरेलु इलाज हिंदी में | Baba Ramdev Tips For Back Pain | Kamardard Ka Ilaj By Baba Ramdev In Hindi

नमस्कार दोस्तों! बाबा रामदेव टिप्स के इस पोस्ट में हम आपको बताने वाले है कमर दर्द के कारण एवं घरेलु इलाज के बारे में जिससे आपका कमर दर्द कुछ ही समय में दूर हो जाएगा।
Kamardard Ka Ilaj By Baba Ramdev In Hindi





 
ज्यादातर लोग सोचते हैं कि कमर दर्द बढ़ती उम्र के कारण होता है  लेकिन ऐसा जरूरी नहीं है। कई बार गलत तरीके से उठने-बैठने, चोट लगने से, खान-पान में गड़बड़ी, गर्भावस्था या फिर अन्य बहुत सारे कारणों से कमर में दर्द हो सकता है।   एक जगह पर ही बैठे रहने से दिक्कत ज्यादा बढ़ सकती है। तो इसके लिए आप कोशिश करें कि थोड़ा काम करते रहें एवं शारीरिक गतिविधियों को बिल्कुल बंद न करें। कई बार ठण्ड के कारण भी पीठ दर्द (Back Pain in Hindi) की समस्या होने लगती है ऐसे में खुद को ठंड से बचाकर रखें। तो इस पोस्ट में हम आपको कमर दर्द के घरेलु उपाय (Kamar Dard के Gharelu Upay) बताएंगे जिससे आपको कमर दर्द से राहत मिलेगी।  




कमर दर्द का कारण (Back Pain Reasons)

कमर मांसपेशियों,डिस्क,नसों और हड्डियों की जटिल संरचना है। इन घटकों में से किसी के साथ होने वाली समस्या से पीठ में दर्द होने लगता है। कई बार कमर के नीचे का दर्द (Lower Back Pain) के कारण पता लगाना मुश्किल हो जाता है। सामान्य से लेकर इसके गंभीर कारण भी हो सकते हैं।

  • रीढ़ की हड्डी में ट्यूमर
  • गुर्दें में सक्रमण
  • भारी सामान उठाना
  • जरूरत से ज्यादा काम करना
  • बढ़ता वजन
  • ऊंची एड़ी के सैंडल पहनना



  • अचानक से झटके के साथ झुकना
  • किसी वस्तु को गलत तरीके से उठाना।
  • गलत मुद्रा में बैठना, चलना, लेटना या खड़े रहना।
  • पूरा दिन कुर्सी पर बैठे रहना।
  • सही गद्दे पर न सोना।
  • जरूरत से ज्यादा व्यायाम करना।
  • बिल्कुल व्यायाम न करना।
  • नींद न आने की बीमारी।
  • रीढ़ को प्रभावित करने वाला बुखार या संक्रमण जैसी चिकित्सा स्थिति।




  • गठिया रोग की परेशानी।
  • बढ़ती उम्र का असर।
  • गर्भावस्था या फिर सी-सेक्शन के कारण।
  • सही खाद्य पदार्थ का सेवन न करना या ज्यादा जंक फूड खाना।
  • सोते वक्त मोटे तकिये का इस्तेमाल करना।
  • दो या चार पहिया वाहन चलाना या घंटों यात्रा करना।
  • आनुवंशिक समस्या के चलते।
इसके अलावा ज्यादा तर 45- 50 साल की उम्र के लोगों में, शरीरिक कमजोरी, शरीर में विटामिन डी और कैल्शियम की कमी से जूझ रहे लोगों में यह परेशानी होती है।





कमर दर्द के सबसे असरदार घरेलु इलाज (Best Home Remedies or Back Pain In Hindi -Baba Ramdev Tips)

1. लैवेंडर का तेल

लैवेंडर तेल के कई औषधीय गुण होते है  लैवेंडर तेल में एंटीस्पास्मोडिक,  एनाल्जेसिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी होता है। जो मांसपेशियों में आई ऐंठन व दर्द से राहत दिलाता है और सूजन को कम करने में मदद कर सकता है।  इसके लिए तेल की तीन से चार बूंदें ले  और कमर में जहां भी दर्द हो रहा हो, वहां इस तेल को लगाएं। फिर हल्के-हल्के हाथों से मालिश करें। इसे रोजाना कम से कम दो बार लगाएं।


2. पिपरमिंट ऑयल

पिपरमिंट ऑयल में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होता है, जो आपको पीठ दर्द से जल्द राहत दिला सकता है।  इसकी दर्दनाशक प्रकृति सिरदर्द, कंधों में दर्द व नसों में दर्द से भी आराम दिला सकती है। इसके लिए तेल की पांच से छह बूंदें ले और  एक चम्मच बादाम/नारियल तेल लेकर मिला ले। अब  इस मिश्रण को दर्द वाली जगह पर हर रोज दो बार लगाएं।


3. अरंडी का तेल

अरंडी के तेल में रिसिनोलिक एसिड (ricinoleic acid) होता है, जिसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और एनाल्जेसिक गुण होते हैं। यह पीठ दर्द केsath साथ सूजन को कम करने में मदद करता है। इसके लिए एक चम्मच अरंडी का तेल ले एवं रात को सोने से पहले अरंडी के तेल को गुनगुना गर्म करके दर्द वाली जगह पर लगाएं। फिर हल्के-हल्के हाथों से मालिश करें। आप हर रात सोने से पहले यह तेल लगाएं।


4. जैतून का तेल

आजकल कई लोग ऑलिव आयल में बने खाने का सेवन करते हैं, क्योंकि यह न सिर्फ स्वास्थ्य के लिए, बल्कि त्वचा और बालों के लिए भी फायदेमंद है। इ जैतून तेल में एंटी-इंफ्लेमेटरी और दर्दनाशक (एनलजेसिक) गुण होते हैं। यह पीठ दर्द एवं गठिया की बीमारी में भी काफी हद तक आराम दे सकता है। इसके लिए एक चम्मच जैतून का तेल ले एवं रात को सोने से पहले जैतून के तेल को गुनगुना गर्म करके दर्द वाली जगह पर लगाएं। फिर हल्के-हल्के हाथों से मालिश करें। आप हर रात सोने से पहले यह तेल लगाएं।


5. अदरक

अदरक गुणों का खजाना है। कई लोग इसे  एंटी-इंफ्लेमेटरी और दर्दनाशक के तौर पर उपयोग करते हैं। सर्दी-खांसी, सिरदर्द, कमर दर्द, पीठ दर्द हो या अन्य कोई स्वास्थ्य संबंधी परेशानी, अदरक का सेवन बहुत ही लाभकारी होता है। इसके लिए अदरक के एक या दो छोटे टुकड़े लेकर 5 से 10 मिनट तक अदरक को एक कप गर्म पानी में डुबो कर रखें। इसमें स्वाद के लिए शहद मिलाएं और ठंडा होने से पहले इसका सेवन करें। आप हर रोज कम से कम दो बार इसका सेवन कर सकते हैं।


6.  तुलसी के पत्ते

तुलसी को वर्षों से औषधि के रूप में उपयोग किया जा रहा है। खासतौर पर सर्दी-जुकाम या शरीर में दर्द होने पर तुलसी का काढ़ा या तेल लाभकारी होता है। तुलसी में एंटी-इंफ्लेमेटरी और दर्द से राहत दिलाने वाले गुण होते हैं। इसलिए, यह पीठ दर्द के लिए कारगर घरेलू उपचार है।  इसके लिए चार-पांच तुलसी के पत्तों को गर्म पानी में 10 मिनट तक डुबो कर रखें। स्वाद के लिए शहद मिलाएं और पानी के ठंडे होने से पहले इस चाय का सेवन करें। आप इस चाय का दिनभर में दो से तीन बार सेवन कर सकते हैं।


7. लहसुन

लहसुन में सेलेनियम और कैप्साइसिन जैसे घटक होते हैं, जो एंटी-इंफ्लेमेटरी और एनाल्जेसिक असर के लिए जाने जाते हैं। ऐसे में यह कमर दर्द के लिए फायेदमंद हो सकता है। इसके लिए आठ से दस लहसुन की कलियों को अच्छे से कुचलकर उसका पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट को दर्द वाली जगह पर लगाकर साफ तौलिये से ढक लें। इसको लगभग आधे घंटे के लिए छोड़ दें और फिर गीले कपड़े से पोंछ लें। आप रोज सुबह लहसुन की 2 से 3 कलियां चबा भी सकते हैं।


8. गर्म सेंक (हीटिंग पैड)

सर्दी-जुकाम हो तो गर्म पानी पीना बहुत लाभकारी होता है। वहीं, कमर दर्द का घरेलू इलाज करने के लिए गर्म सेंक का उपयोग करना भी फायदेमंद होता है। इसके लिए आप जहां कमर में दर्द हो रहा हो, वहां हॉट वॉटर बैग से 25 से 30 मिनट रोज कम से कम एक बार सिकाई करें।


9. मेथी

कई घरों में मेथी को खाना बनाने में उपयोग किया जाता है। यह पौष्टिक तत्वों व गुणों का खजाना है। यह डायबिटीज कोलेस्ट्रॉल, पीरियड्स में होने वाले दर्द से लेकर जोड़ों के दर्द, गठिया व पीठ दर्द से राहत दिला सकती है।  इसके लिए एक चम्मच मेथी पाउडर लें और इसे एक गिलास गर्म दूध में मिलाएं। फिर इसका सेवन करें। आप स्वाद के लिए इसमें शहद मिला सकते हैं। आप हर रोज रात को सोने से पहले इसका सेवन करें।


10. हल्दी

हल्दी ऐसी चीज है, जो हर घर की रसोई में मिलती है। यह न सिर्फ खाने का रंग और स्वाद बढ़ाती है, बल्कि औषधीय गुणों का खजाना भी है। हल्दी में करक्यूमिन नामक यौगिक होता है, जिसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और दर्दनिवारक गुण होते हैं। जो पीठ, कमर या मांसपेशियों के दर्द को कम करते है।  इसके लिए एक गिलास गर्म दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाएं। इस मिश्रण का सेवन करें।

 

11. सेंधा नमक

ब्लड प्रेशर को संतुलित रखना हो, पाचन शक्ति में सुधार करना हो या वजन घटाना हो, हर मामले में सेंधा नमक कारगर है। सेंधा नमक को मैग्नीशियम सल्फेट के रूप में भी जाना जाता है। इसके नियमित उपयोग से कमर या कमर के नीचे होने वाले दर्द को काफी हद तक कम किया जा सकता है। इसके लिए एक या दो कप सेंधा नमक को एक बाल्टी पानी में मिलाएं। अब इस पानी से आप नहाएं। आप हफ्ते में दो से तीन बार इस विधि को कर सकते हैं।


12. बर्फ के पैक (आइस पैक)

चेहरे पर बर्फ लगाएं, तो ठंडक का एहसास होता है। वैसे ही कमर दर्द या पीठ दर्द में भी बर्फ अच्छा असर करती है। इसके लिए कमर के नीचे दर्द वाली जगह पर आइस पैक लगाएं और इसे 15 से 20 मिनट के लिए छोड़ दें। इसे दिनभर में एक से दो बार उपयोग करें।


 
कमर दर्द के कारण एवं सबसे असरदार घरेलु इलाज हिंदी में | Baba Ramdev Tips For Back Pain | Kamardard Ka Ilaj By Baba Ramdev In Hindi कमर दर्द के कारण एवं सबसे असरदार घरेलु इलाज हिंदी में | Baba Ramdev Tips For Back Pain | Kamardard Ka Ilaj By Baba Ramdev In Hindi Reviewed by deeksha arya on 14:23 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.