हरा धनिया (Hara Dhaniya) खाने के फायदे | Benefits Of Coriander Leaves- Baba Ramdev Tips

हरा धनिया (Hara Dhaniya) खाने के फायदे | Benefits Of Coriander Leaves- Baba Ramdev Tips

नमस्कार दोस्तों ! Baba Ramdev Tips के आज के इस पोस्ट में हम आपको हरा धनिया खाने से होने वाले चमत्कारी लाभों के बारे में बताने वाले है।  किसी भी बीमारी के इलाज के लिए डॉक्टर्स सबसे पहले हरी सब्जिया खाने की सलाह देते है, क्योंकि हरी सब्जियों में ऐसे बहुत से पोषक तत्त्व होते है जो आपके स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। और धनिया भी उन्ही हरी सब्जियों  में से एक है जो पोषक तत्वों से भरपूर है। 








धनिया लगभग सभी घरों में पाया जाता है | लोग हरे धनिया और सूखे धनिये का प्रयोग करते हैं । हरा धनिया का प्रयोग चटनी या सब्जी में डालकर किया जाता है और सूखे धनिये का प्रयोग मसाले के रुप में अधिक होता है । धनिया सिर्फ खाने में स्वाद बढ़ाने का ही काम नहीं करता बल्कि कई रोगो के इलाज में भी सहायक होता है। तो आज हम आपको धनिये के उन औषधीय गुणों (Medicinal Properties of Coriander) और उसके सेवन से होने वाले फायदों के बारे में बताने वाले है जो आपको अनेक बीमारियों से लड़ने में मदद करते है।


धनिया के औषधीय गुण (Medicinal Properties of Coriander)

धनिया गरम प्रवत्ति का होता है | यह अग्नि दीपक, ज्वरनाशक, दुर्बलता नाशक है | इसकी हरी पत्तियां पित्त को शांत करती हैं |




धनिया के फायदे (Benefits (Labh) of Coriander In Hindi


1. यदि आप धनिया की पत्तियों का शरबत बनाकर पीते है तो इससे पेशाब में जलन, प्यास, आंखों में जलन, दस्त और गैस की समस्या दूर होती है और साथ ही मन प्रसन्न भी रहता है।  

2. धनिया से बने तेल से मालिश करने पर वाट रोग की समस्या दूर होती है और इसका उपयोग दर्द को कम करने के लिए भी किया जाता है।  आप धनिया का तेल बनाने के लिए  कोई भी तेल ले अगर सरसो का तेल उपलब्ध हो पाए तो वह बहुत अच्छा  है।  अब उस तेल में सूखा धनिया डालकर 5 मिनट तक गैस पर गर्म करे इसके बाद उसे ठंडा कर ले और फिर इस तेल से मालिश करे, आपको  काफी आराम मिलेगा। 





3. श्वेत प्रदर में लाभ (Beneficial in Vaginal Discharge) 

आप धनिया की हरी पत्तियां लें कूट कर इसका रस निकाल लें | 20 ml रस में थोड़ी मिश्री दाल लें और इसे सुबह खाले पेट रोजाना पिए | इसका सेवन करने से महिलाओं के श्वेत प्रदर में लाभ होता है।  


4. भोजन को स्वादिष्ट एवं सुगंधित बनाने के लिए धनिया का प्रयोग मसाले के रूप में भी किया जाता है.

5. यदि किसी के शरीर में चकत्ते (रेड रशेस और रेड स्पॉट्स) हो गए हो जिन्हे पित्ती भी कहते है तो धनिये का रस पिने से इस समस्या को दूर किया जा सकता है। 

6. मुख्यतः गर्मियों के मौसम में नाक से खून आने की समस्या होती है। यदि नाक से खून निकल रहा है तो धनिये की पत्तियों का रस नाक में डालने से खून निकलना बंद हो जाता है।  







7. धनिये के चूर्ण के सेवन से मुहांसो (एक्ने और पिम्पल्स) को पूरी तरह से ख़त्म किया जा सकता है।

8. यदि आपकी पाचन शक्ति कमजोर है और आपको हमेशा पाचन की समस्या रहती है तो आपको धनिया और सौंठ का काढ़ा बनाकर पीना चाहिए। इससे पाचन शक्ति बढ़ती है |

9. यदि आप धनिया और जीरे को मिलाकर शरबत बनाकर इसे पीते है तो इससे शरीर में गर्मी कम होती है इसे गर्मियों के मौसम में पीने से लू लगने का खतरा भी कम हो जाता है।  

10. यदि आपको सर्दी और खासी हो गयी है तो ऐसी परिस्थिति में धनिये का काढ़ा बहुत ही आराम पहुंचाता है। काढ़ा बनाने के लिये आपको 100 ml पानी में लगभग 20 ग्राम हरी धनिया (हरा धनिया न हो तो धनिया के बीज लें) के पत्ते डालकर थोड़ी देर उबालें | जब पानी 3/4 रह जाए और काढ़ा बन जाए तो इसे ठण्डा कर लें, लेकिन हल्का गर्म रहने पर इसका सेवन करे |






 

धनियाँ हमारे लिए घरेलु औषधि की तरह है और इसके इस्तेमाल से कई तरह के रोग दूर हो जाते है | घरेलु औषधि हमेशा अन्य औषधियों से बेहतर है इसलिए घरेलु औषधियों का इस्तेमाल जहाँ तक हो सके करना चाहिए |लेकिन  धनिया की अधिक सेवन करना नुकसानदायक हो सकता है इसके अधिक सेवन से पुरुषों की कामशक्ति कमजोर हो जाती है और महिलाओं का मासिक धर्म रुक जाता है. इसलिए 18 से 40 वर्ष के लोगों को धनिया अधिक नहीं खाना चाहिए |



हरा धनिया (Hara Dhaniya) खाने के फायदे | Benefits Of Coriander Leaves- Baba Ramdev Tips हरा धनिया (Hara Dhaniya) खाने के फायदे | Benefits Of Coriander Leaves- Baba Ramdev Tips Reviewed by deeksha arya on 18:06 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.